online casino india

सुल्तान सख़ी सरवर लखदाता-मोहम्मदुद्दीन फ़ौक़

आबा-ओ-अज्दाद पौने सात सौ साल का ज़िक्र है कि एक बुज़ुर्ग ज़ैनुल-आ’बिदीन नाम रौज़ा-ए-रसूल-ए-पाक के मुजाविरों में थे।इसी हाल में वहाँ उनको बरसों गुज़र गए।रसूल-ए-करीम की मोहब्बत से सरशार और रौज़ा-ए-अक़्दस की ख़िदमात में मस्त थे कि ख़ुद आँ-हज़रत सलल्ल्लाहु अ’लैहि व-सलल्लम ने एक रात ख़्वाब में फ़रमाया कि उठ और हिन्दुस्तान की सैर कर।आप… continue reading

Music and Musicians of the court of Shah Jahan – A. Hatim.

The artists of the Qawwali school were Rauza Qawwal and Kalu Qawwal, the latter being a disciple of Sher Muhammad.
There were only two court musicians representing the Persian school of music, Muhammad Baqi Mughal, a good composer whose accomplishments declined owing to his taking too much opium, and Mir Imad, also a musician-composer, a Sayyid of Herat whose father had migrated from Central Asia.

Chandar Bhan Brahman-Iqbal Husain

Maraa dilest ba-kufr-aashnaa ki chandii.n baar
Ba-kaabaa burdam-o-baazash barhaman aawardam
“I possess the heart of an infidel. Many a time I took it to the Ka’ba but always brought it back a Brahman”.

शैख़-ए-तरीक़त हज़रत सय्यद अ’ल्लामा मोहम्मद अ’ली शाह मयकश रहमतुल्लाह अलै’ह-सवानेह और किरदार

हुल्या देखो तो ठेठ अकबराबादी और दिल टटोलो तो मक्की मदनी-ओ-बग़दादी-ओ-अजमेरी। मयकश साहिब शाइ’री में इस क़द्र सही मज़ाक़ और लतीफ़ तबीअ’त रखते हैं कि बस उसके आगे ख़ुदा का ही नाम है।
-हामिद हसन क़ादरी 

हज़रत शैख़ बू-अ’ली शाह क़लंदर

नाम-ओ-नसबः- नाम शैख़ शर्फ़ुद्दीन और लक़ब बू-अ’ली क़लंदर था।इमाम-ए-आ’ज़म अबू हनीफ़ा की औलाद से थे।सिलसिला-ए-नसब ये है।शैख़ शर्फ़ुद्दीन बू-अ’ली क़लंदर बिन सालार फ़ख़्रुद्दीन बिन सालार हसन बिन सालार अ’ज़ीज़ अबू बक्र ग़ाज़ी बिन फ़ारस बिन अ’ब्दुर्रहीम बिन मोहम्मद बिन वानिक बिन इमाम-ए-आ’ज़म अबू हनीफ़ा। इनके वालिद सन 600 हिज्री में इ’राक़ से हिंदुस्तान आए।वो बड़े… continue reading

Modern Tales Of Mulla Naseeruddin-11

Every morning she went out to ‘meet’ the Mevlana. Read Coleman Barks’ translation of Mevlana’s works and Brad Gooch’s account of Rumi’s life for hours while sitting on the floor. I did the same for almost six hours the previous day there, so I could feel the way she had felt.