संत साहित्य-श्री परशुराम चतुर्वेदी

कुछ दिनों पूर्व तक संतों का साहित्य प्रायः नीरस बानियों एवं पदों का एक अनुपयोगी संग्रह मात्र समझा जाता था और सर्व साधारण की दृष्टि में इसे हिंदी-साहित्य में कोई विशिष्ट पद पाने का अधिकार नहीं था। किंतु संत साहित्य को विचार-पूर्वक अध्ययन एवं अनुशीलन करने पर यह बात एक प्रकार से नितांत निराधार सिद्ध… continue reading

तज़्किरा-ए-फ़ख़्र-ए-जहाँ देहलवी -प्रोफ़ेसर निसार अहमद फ़ारूक़ी

मियाँ अख़लाक़ अहमद साहिब मरहूम मुहिब्बान-ए-औलिया-उल्लाह में से थे। मेरे हाल पर भी नज़र-ए-इ’नायत रखते थे। कभी कभी ख़त लिख कर याद फ़रमाया करते थे। मेरी बद-क़िस्मती है कि कभी उनसे मुलाक़ात का शरफ़ हासिल नहीं हुआ और 1989 ई’सवी में जब मेरा लाहौर जाना हुआ तो उनके मज़ार पर ही हाज़िरी हो सकी। अल्लाह… continue reading

हज़रत सय्यिद मेहर अ’ली शाह – डॉक्टर सय्यिद नसीम बुख़ारी कलीमी फ़रीदी

हज़रत सय्यिद मेहर अ’ली शाह1859 ई’स्वी में रावलपिंडी से ग्यारह मील के फ़ासिला पर क़िला गोलड़ा में पैदा हुए। आपके वालिद हज़रत सय्यिद नज़र शाह को आपकी विलादत की ख़ुश-ख़बरी एक मज्ज़ूब ने दी थी। मज्ज़ूब ना-मा’लूम इ’लाक़ा से आया था और सय्यिद मेहर अ’ली शाह की विलादत के फ़ौरन बा’द आप की ज़ियारत कर… continue reading

Kabir as Depicted in the Persian Sufistic and Historical Works- Dr. Qamaruddin

In the present age of comparative religious tolerance, it is no great to feat to preach religious harmony or to denounce meaningless  ritual. But to do so almost five hundred years ago in a country like India called for a brave, a truly inspired man. Such a man was Kabir who was born in an… continue reading

बाबा बुल्ले शाह और उनका काव्य

इश्क़ शब्द अरबी के इश्क़िया (عشقیہ)  से निकला है. यह एक प्रकार की वनस्पति है जिसे फ़ारसी में इश्क़ पेचां तथा अरबी में लबलाब कहते हैं. जब यह किसी पेड़ से लिपट जाती है तो वह पूरा वृक्ष सुखा देती है. यही हालत इश्क़ की है. इश्क़ भी जिस तन को लग जाता है वह… continue reading

PERSIAN POETRY AND LIFE IN THE THIRTEENTH CENTURY- REYNOLD A NICHOLSON

By the end of the twelfth century Persia, though paying nominal allegiance to the ‘ Abbasid Caliphate, had not only asserted her independence m the spheres of religion and politics, but had produced a large and varied literature in which the genius of the race expresses itself unmistakably Of this literature the best part in… continue reading