संत साहित्य-श्री परशुराम चतुर्वेदी

कुछ दिनों पूर्व तक संतों का साहित्य प्रायः नीरस बानियों एवं पदों का एक अनुपयोगी संग्रह मात्र समझा जाता था और सर्व साधारण की दृष्टि में इसे हिंदी-साहित्य में कोई विशिष्ट पद पाने का अधिकार नहीं था। किंतु संत साहित्य को विचार-पूर्वक अध्ययन एवं अनुशीलन करने पर यह बात एक प्रकार से नितांत निराधार सिद्ध… continue reading

Ishqbaazi (इश्क़बाज़ी)

रोज़ ए अज़ल से यह कहानी चलती आ रही है । खुदा ने जब ये क़ाएनात बनाई तो साथ ही साथ आत्मा की पतंग भी इश्क़ की डोर से बांध कर उड़ा दी । पतंग जब आसमान में पहुंची तो उसे ऐसा लगने लगा कि ये डोर उसे बांध रही है । उसकी अंतरात्मा ने… continue reading

Bhakti Movement and Sulh e Kul ( भक्ति आंदोलन और सुल्ह ए कुल )

भक्ति आंदोलन हिंदुस्तानी संस्कृति के सामान ही विविधताओं का पिटारा है। हिन्दू और मुसलमान भक्त कवियों ने जहाँ जात पात और मज़हब से परे मानवता और प्रेम को अपनाया वहीं सूफ़ियों से उनका प्रेम तत्व भी ग्राह्य किया। भक्ति आंदोलन की शुरुआत तो आठवी शताब्दी में ही अलवार संतों द्वारा हो गयी थी परन्तु कबीर… continue reading

Story of an interview between Hazrat Waris Pak and Sir Syed Ahmed.

An interesting story is told of an interview between Hazrat Waris Pak and the late Sir Syed Ahmed. Haji Saheb happened to visit Aligarh. Sir syed on hearing his visit, sent a message to him requesting for a private interview , and he was asked to come in the evening. Sir Syed arrived late in… continue reading

An apple that ravaged a Sufi’s soul By Meher Murshed

Abu Saleh Mousa Jangi Dost lived sometime in the eleventh century in Naif town in the district of Gilan, present day Iran. He had renounced the world and wandered from village to village, town to town, in search of the truth; to tread the path of the just. One day he was weary from his… continue reading

Count Galaraza (A spanish Student of Waris Pak) and his letter

A strange story is told of a Spanish nobleman of the name of Count Galaraza who came all the way from Spain to pay a visit to Haji Waris Pak and to be initiated in his order in London. A disciple of Haji Saheb who was intrested in spiritualism made an exhibition of his powers…. continue reading