पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा “सय्यद शाह मोहम्मद यूसुफ़ बल्ख़ी फ़िरदौसी”

बचपन ही से यूसुफ़ बल्ख़ी बहुत होनहार थे ।उनकी बड़ी बेटी क़मरुन्निसा बल्ख़ी फ़िरदौसी अपने वालिद-ए-माजिद का ज़िक्र करते हुए फ़रमाती हैं कि

“मेरे वालिद माजिद रहमतुल्लाहि अ’लैहि दुबले-पुतले और लंबे थे। लिबास में पाजामा-कुर्ता और टोपी पहना करते। मेहमान-नवाज़ी का बड़ा शौक़ था इसलिए अगर कोई दोस्त मज़ाक़ से भी ये कह देता कि भाई यूसुफ़ रहमानिया होटल सब्ज़ी बाग़ गए हुए कई दिन हो गए तो अब्बा जान मोहतरम उसे फौरन कहते जल्दी चलो जल्दी चलो मैं तुम्हें रहमानिया होटल ले जाता हूँ। अंग्रेज़ी और फ़ारसी में काफ़ी महारत हासिल थी। फ़ारसी और अंग्रेज़ी में घंटों बातें किया करते थे जिसमें उनके अंग्रेज़ी दोस्त होते जिनसे वो बिला झिझक अंग्रेज़ी में बातें किया करते थे। शे’र-ओ-शाइ’री से भी काफ़ी शग़्फ़ था।

हज़रत अ’लाउद्द्दीन अहमद साबिर कलियरी

बाबा साहिब फ़रमाया करते थे :

“इ’ल्म-ए-सीना-ए-मन दर ज़ात-ए-शैख़ निज़ामुद्दीन बदायूनी, इ’ल्म-ए-दिल मन शैख़ अ’लाउ’द्दीन अ’ली अहमद सरायत कर्दः”

(मेरे सीने के इ’ल्म ने शैख़ निज़ामुद्दीन बदायूनी की ज़ात में और मेरे दिल के इ’ल्म ने शैख़ अ’लाउ’द्दीन अ’ली अहमद साबिर की ज़ात में सरायत की है।

सूफ़िया-ए-किराम और ख़िदमात-ए-उर्दू-अज़ सय्यद मुहीउद्दीन नदवी

सूबा बिहार जो आज से सदियों नहीं हज़ारों साल पहले हिंदू-मज़हब, बोद्ध-धर्म, जैनी-मत और वैदिक धर्म का मंबा रह चुका है क्यूँकर मुमकिन था कि वो उन मुबारक हस्तियों के फ़ूयूज़-ओ-बरकात की बारिश से महरूम रहता। चुनाँचे मलिक इख़्तियारुद्दीन मोहम्मद बख़्तियार खिल्जी के आने से पहले ही सूफ़िया-ए-किराम का एक मुक़द्दस ताइफ़ा यहाँ नुज़ूल-ए-अजलाल फ़रमा चुका था और अपनी नूरानी शुआओं’ से सर-ज़मीन-ए-बिहार के हर-हर ज़र्रा को मेहर-ओ-माह बना कर चमका रहा था।उनमें अक्सर-ओ-बेशतर बुज़ुर्ग थे जिन्हों ने अपने ख़यालात-ओ-तब्लीग़ी सर-गर्मियों के इज़हार का ज़रिआ’ उर्दू ज़बान ही को बनाया। आज की नशिस्त में हम बिहार के एक बा-ख़ुदा सूफ़ी के कलाम का मुख़्तसर-सा नमूना पेश करते हैं जिससे ब-ख़ूबी अंदाज़ा किया जा सकता है कि उर्दू ज़बान की तौसीअ’-ओ-ता’रीज में सूफ़िया-ए-उ’ज़्ज़ाम का किस दर्जा हिस्सा है।

हज़रत सूफ़ी मनेरी की तारीख़-गोई का एक शाहकार – जनाब रख़्शाँ अब्दाली, इस्लामपुरी

हज़रत सूफ़ी मनेरी (सन 1253 हिज्री ता सन 1318 हिज्री )अपने वक़्त के एक बा-कमाल शाइ’र थे। आपको हज़रत-ए-ग़ालिब से तलम्मुज़ था।आपके समंद-ए-फ़िक्र की जौलान-गाह उर्दू ही की वादी नहीं बल्कि ज़मीन-ए-पारस भी थी और नस्र-ओ-नज़्म दोनों ही हैं।

बर्र-ए-सग़ीर में अ’वारिफ़ुल-मआ’रिफ़ के रिवाज पर चंद शवाहिद-(आठवीं सदी हिज्री तक)-डॉक्टर आ’रिफ़ नौशाही

शैख़ गंज शकर 569-664 हिज्री) अ’वारिफ़ का दर्स देते थे। हज़रत निज़ामुद्दीन औलिया ने अ’वारिफ़ के पाँच अबवाब उन्हीं से पढ़े थे। गंज शकर का पढ़ाने का अंदाज़ बहुत दिल-नशीन था और कोई दूसरा उन जैसा अ’वारिफ़ नहीं पढ़ा सकता था। बारहा ऐसा हुआ कि सुनने वाला उनके ज़ौक़-ए-बयान में ऐसा मह्व हुआ कि ये तमन्ना करते पाया गया कि काश उसी लम्हे मौत आ जाए तो बेहतर है। एक दिन ये किताब शैख़ की ख़िदमत में लाई गई तो इत्तिफ़ाक़ से उसी दिन उनके हाँ लड़का पैदा हुआ। शैख़ुश्शुयूख़ के लक़ब की मुनासबत से उस का लक़ब “शहाबुद्दीन” रखा गया।

है शहर ए बनारस की फ़ज़ा कितनी मुकर्रम

महसूस यूँ हुआ कि हम जन्नत में आ गए
कैसी है देखो आज फ़ज़ा कुछ न पूछिए