ख़्वाजा बुज़ुर्ग के पीर भाई

इलाही ता बुवद ख़ुर्शीद-ओ-माही
चराग़-ए-चिश्तियाँ रा रौशनाई